Recent Posts

SDRF कमाण्डेंट पंकज चौधरी, द्वारा एसडीआरएफ बटालियन मुख्यालय गाडोता परिसर में किक्रेट अभ्यास मैच का आयोजन कराया गया

SDRF कमाण्डेंट पंकज चौधरी, द्वारा एसडीआरएफ बटालियन मुख्यालय गाडोता परिसर में किक्रेट अभ्यास मैच का आयोजन कराया गया

SDRF कमांडेंट पंकज चौधरी द्वारा दिनांक 27.06.2021 को एसडीआरएफ बटालियन मुख्यालय गाडोता जयपुर परिसर में प्रातः 07.00 ए.एम. से 09.00 ए.एम. तक 08 ओवर के क्रिकेट मैच का अभ्यास का आयोजन करवाया गया। जिसमें राजस्थान पुलिस खेल की टीम एवं एसडीआरएफ की टीम ने भा... Read more

वरिष्ठ सिविल सेवक डॉ. हरि ओम ने अपनी कैलाश यात्रा के अनुभव किए साझा

वरिष्ठ सिविल सेवक डॉ. हरि ओम ने अपनी कैलाश यात्रा के अनुभव किए साझा

आईएएस एसोसिएशन, राजस्थान द्वारा आयोजन जयपुर, 22 मई। आईएएस एसोसिएशन, राजस्थान द्वारा शनिवार को वरिष्ठ सिविल सेवक  के साथ ऑनलाइन चर्चा का आयोजन किया गया। उन्होंने आईएएस लिटरेरी सेक्रेटरी, आईएएस एसोसिएशन, राजस्थान, श्रीमती मुग्धा सिन्हा के साथ चर्चा की।... Read more

स्वास्थ्य सेवाओं की धुरी हैं नर्सेज

स्वास्थ्य सेवाओं की धुरी हैं नर्सेज

12 मई जन्मदिवस है ‘आधुनिक नर्सिंग सेवा की जन्मदात्री’  फ्लोरेंस नाइटेंगल का।जिन्होंने 1854 में हुए ‘क्रीमिया युध्द’ में विपरीत परिस्थितियों में घायल सैनिकों को नर्सिंग सेवा प्रदान की।रात्रि के समय जब युध्द रुक जाता था तब नाइटे... Read more

राजस्थान प्रदेश में 10 मई से 24 मई तक सख्त लॉकडाउन

राजस्थान प्रदेश में 10 मई से 24 मई तक सख्त लॉकडाउन

कोरोना संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए मंत्रिपरिषद के महत्वपूर्ण निर्णय जयपुर, 6 मई मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की अध्यक्षता में गुरुवार को वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए हुई राज्य मंत्रिपरिषद की बैठक में ग्रामीण क्षेत्रों एवं युवा वर्ग में बढ़ते कोरोना संक्रमण त... Read more

उम्मीद है अब तो सोचो हित जन का !

उम्मीद है अब तो सोचो हित जन का !

जीवन की बूंदों से हार औंधी पड़ी है दुनिया कराहती कई दिलों के तार टूटे हैं कई तारे बन जगमगा रहे वह दर्द, वह तपिश सच्चाई की उन बेबस आँखों में जिनमें दिखाई देती थी कभी जिंदगी की खुशहाली चमका करते थे रौशनी के समुन्दर कण-कण जीवन की बूंदों से हार आज रेत की... Read more

डॉ. कुंअर बेचैन जी का जाना हिंदी गीत और ग़ज़ल के एक युग का अंत है – डॉ. कीर्ति काले

करोना की क्रूरता ने निगल लिया एक और नगीने को तुम ही भरी बहार से आगे निकल गएतुम मेरे इन्तजार से आगे निकल गए(डॉ कुंअर बेचैन) विद्वत्ता, विनम्रता एवं विचारशीलता का अद्भुत समन्वय थे डॉ कुंअर बेचैन जी। बहुत सारे लोग बहुत विद्वान होते हैं। विद्वत्ता का दर्... Read more

भारतीय सिविल सेवा

भारतीय सिविल सेवा

भारतीय सिविल सेवा भारतीय सिविल सेवा भारत सरकार की ओर से प्रदत्त नागरिक सेवा या स्थायी नौकरशाही है! भारत की संसदीय लोकतांत्रिक प्रणाली के अंतर्गत जनता द्वारा चुने गये प्रतिनिधियों के साथ मिल कर यह नौकरशाही प्रशासन का संचालन करती है! मंत्रियों का कार्य... Read more

विश्व स्वास्थ्य दिवस पर आलेख- सुरेश

विश्व स्वास्थ्य दिवस पर आलेख- सुरेश

वर्ष 1948 में आज के दिन स्थापित हुए विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा शुरू किया हुआ यह स्वास्थ्य दिवस इस वर्ष विशेष हो जाता है जब एक वर्ष बीत जाने के बाद भी पूरी दुनिया कोरोना महामारी के संकट से जूझ रही है। 1950 में जब इस दिवस को मनाने की शुरुआत की गई थी... Read more

कथा की कारीगरी पर कनौता कैम्प में कार्यशाला

कथा की कारीगरी पर कनौता कैम्प में कार्यशाला

मुख्यतः साहित्यिक आयोजन कथा कविता के शिल्प या किताबों पर चर्चाओं तक ही सीमित रहते हैं । ऐसे में समय में एक अनूठी और महत्वपूर्ण पहल की है सुप्रसिद्ध लेखिका मनीषा कुलश्रेष्ठ ने । मनीषा ने बताया कि हिंदी नेस्ट (वेब पत्रिका) के तत्वावधान में ‘कथा क... Read more

कॉस्टेलिनोऑय फाउंडेशन द्वारा निःशुल्क मेडिकल कैंप का हुआ आयोजन 

कॉस्टेलिनोऑय फाउंडेशन द्वारा निःशुल्क मेडिकल कैंप का हुआ आयोजन 

 जयपुर : हर साल की भांति कॉस्टेलिनोऑय फाउंडेशन द्वारा 13वा  निःशुल्क मेडिकल कैंप आयोजन किया गया| यह मेडिकल कैंप कसॅटेलिनो ऑय फाउंडेशन, दृष्टि ऑय हॉस्पिटल, एवं पिंक विनायक हॉस्पिटल के सयुंक्त तत्वाधान में  आयोजित किया गया|  कसॅटेलिनो ऑय फाउंडेशन के डा... Read more

नारी

नारी

  मैं मैं हूं रक्त, मांस, मस्तिष्क, मन, भावों व विचारों से पूरित एक जीवित आकार मैं नहीं हूं चांद -सी सुंदर सूरज सी तेजोमय मेरी आंखों में नहीं है सागर सी गहराई न कोई झील है मेरी आंखों के नीचे के काले घेरे, मेरी बिधी हुई उंगलियां, मेरी खुरदरी हथेल... Read more

मृत्यु के समय भगवान का नाम कौन ले सकता_है ?

मृत्यु के समय भगवान का नाम कौन ले सकता_है ?

#जगद्गुरुश्रीकृपालुजीमहाराजकी प्रचारिका #सुश्रीश्रीधरीदीदी द्वारा विशेष_लेख! #मृत्युकेसमयभगवानकानामकौनलेसकता_है ? प्रायः भोले-भाले लोग अजामिल का उदाहरण देकर कहते हैं कि मृत्यु के समय भगवान का नाम लेने से भगवान का लोक प्राप्त होता है। कई कथावाचकों इत्... Read more

जगद्गुरु श्री कृपालु जी महाराज के जगद्गुरूत्तम उद्घोषित दिवस की 64वीं वर्षगाँठ

जगद्गुरु श्री कृपालु जी महाराज के जगद्गुरूत्तम उद्घोषित दिवस की 64वीं वर्षगाँठ

#श्रीधरीदीदीकीओरसेजगद्गुरूत्तमदिवस_संदेश: श्री गुरु चरणानुरागी भक्तवृंद । आप सभी को जगद्गुरु श्री कृपालु जी महाराज के जगद्गुरूत्तम उद्घोषित दिवस की 64वीं वर्षगाँठ की हार्दिक बधाई । 14 जनवरी सन् 1957, मकर सक्रांति का दिन वह स्वर्णिम ऐतिहासिक दिवस था ज... Read more

नहीं रहे महाराज पृथ्वीराज

नहीं रहे महाराज पृथ्वीराज

जयपुर, 2 नवंबर:   रामबाग पैलेस के निदेशक और दौसा के पूर्व सांसद महाराज पृथ्वीराज (84) का आज शाम कोविड-19 के कारण एक प्राइवेट हॉस्पिटल में निधन हो गया। वे जयपुर के दिवंगत महाराजा सवाई मान सिंह द्वितीय और महारानी किशोर कंवर के पुत्र थे। महाराज पृथ्वीरा... Read more

मेरा काम ही मेरा जुनून है- क्रिस्टीना ज़रीन

मेरा काम ही मेरा जुनून है- क्रिस्टीना ज़रीन

दुनियाभर में गुलाबी शहर जयपुर के डिजायन्ड कपड़ों को बहुत पसंद किया जाता है। जयपुर में क्रिस्टीना ब्रांड (Christeena Brand Christeena Zareen) को लगातार बड़ी पहचान दिला रही हैं अल शैदाई फर्म से जुड़े क्रिस्टीना ब्रांड की ऑनर व फाउंडर क्रिस्टीना। अपने ब... Read more

ईमानदारी की मिसाल बने नीलेश और गमेर

ईमानदारी की मिसाल बने नीलेश और गमेर

7,50,000 ₹ जी हाँ ……..साढ़े सात लाख रुपये। अगर इतनी ही धनराशि आपको बैठे बिठाये मिल जाये तो आपकी क्या प्रतिक्रिया होगी। राह चलते एक बैग मिला जाये जिसमें साढ़े सात लाख रुपये हों। कहीं साढ़े सात लाख रुपये के ज़ेवरात पड़े मिल जायें ?……... Read more

कई कसाई छुपे हुए हैं हमारी सामाजिक व्यवस्था में

कई कसाई छुपे हुए हैं हमारी सामाजिक व्यवस्था में

फ़िल्म कसाई 23 अक्टूबर को शेमारू मी पर आई है । कथाकार चरण सिंह पथिक की कहानी पर आधारित निर्देशक गजेंद्र एस श्रोत्रिय की यह फ़िल्म काफ़ी चर्चा में है । इस फ़िल्म में मीता वशिष्ठ और रवि झंखाल मुख्य भूमिकाओं में हैं। फ़िल्म कई फ़िल्म समारोह में सराही जा चुकी... Read more

रश्मिरथी दिनकर जी

रश्मिरथी दिनकर जी

 बिहार के मुंगेर जिले के सिमरिया घाट गाँव में  23 सितंबर 1908 को जन्में महाकवि रामधारी सिंह दिनकर जी ने गद्य और पद्य दोनों ही विधाओं में श्रेष्ठ कार्य कर हिंदी भाषा को समृद्ध बनाने में अपना अमूल्य योगदान दिया है।साहित्य अकादमी,ज्ञानपीठ,और पद्मभूषण से... Read more

Copyright 2019-20 mahisandesh.com. All rights reserved. Powered by Mahisandesh and Developed By: Shree Soft Technologies